Google+ Followers

सोमवार, 30 सितंबर 2013

ग़ज़ल (बोल)


गज़ल  (बोल)


उसे हम बोल क्या बोलें जो दिल को दर्द दे जाये
सुकूं दे चैन दे दिल को , उसी को बोल बोलेंगें

जीवन के सफ़र में जो मुसीबत में भी अपना हो
राज ए दिल मोहब्बत के, उसी से यार खोलेंगें 

जब अपनों से और गैरों से मिलते हाथ सबसे हों
किया जिसने भी जैसा है , उसी से यार तोलेंगें

अपना क्या, हम तो बस, पानी की ही माफिक हैं
 मिलेगा प्यार से हमसे ,उसी  के यार होलेंगें

जितना हो जरुरी ऱब, मुझे उतनी रोशनी देना 
अँधेरे में भी डोलेंगें उजालें में भी डोलेंगें
 
ग़ज़ल
मदन मोहन सक्सेना

मंगलवार, 24 सितंबर 2013

ग़ज़ल (मौका)







ग़ज़ल (मौका)

गजब दुनिया बनाई है, गजब हैं  लोग दुनिया के
मुलायम मलमली बिस्तर में अक्सर बह  नहीं सोते 

यहाँ  हर रोज सपने  क्यों, दम अपना  तोड़ देते हैं
नहीं है पास में बिस्तर ,बह  नींदें चैन की सोते 

किसी के पास फुर्सत है,  फुर्सत ही रहा करती 
इच्छा है कुछ करने की,  पर मौके ही नहीं होते 

जिसे मौका दिया हमने  , कुछ न कुछ करेगा बह 
किया कुछ भी नहीं ,किन्तु   सपने रोज बह  बोते 

आज  रोता नहीं है
कोई भी  किसी और  के लिए
सब अपनी अपनी किस्मत को ले लेकर खूब रोते


ग़ज़ल :
मदन मोहन सक्सेना

बुधवार, 18 सितंबर 2013

ग़ज़ल ( सेक्युलर कम्युनल )


 
गज़ल ( सेक्युलर कम्युनल )

 
जब से बेटे जबान हो गए 
मुश्किल में क्यों प्राण हो गए 

किस्से सुन सुन के संतों के 
भगवन भी हैरान हो गए 

आ धमके कुछ ख़ास बिदेशी 
घर बाले मेहमान हो गए 

सेक्युलर कम्युनल के चक्कर में 
गाँव गली शमसान हो गए 

कैसा दौर चला है अब ये 
सदन कुश्ती के मैदान हो गए 

बिन माँगें सब राय  दे दिए 
कितनों के अहसान हो गए



प्रस्तुति:

मदन मोहन सक्सेना 



मंगलवार, 10 सितंबर 2013

ग़ज़ल (दोस्ती आती नहीं है रास अब बहुत ज्यादा पास की)







ग़ज़ल (दोस्ती आती नहीं है रास अब बहुत ज्यादा पास की)


नरक की अंतिम जमीं तक गिर चुके हैं  आज जो
नापने को कह रहे , हमसे बह दूरियाँ आकाश की

इस कदर भटकें हैं युबा आज के  इस दौर में
खोजने से मिलती नहीं अब गोलियां सल्फ़ास की

आज हम महफूज है क्यों दुश्मनों के बीच में
दोस्ती आती नहीं है रास अब बहुत ज्यादा पास की

बँट  गयी सारी जमी ,फिर बँट  गया ये आसमान
क्यों आज फिर हम बँट गए ज्यों गड्डियां हो तास की

हर जगह महफ़िल सजी पर दर्द भी मिल जायेगा
अब हर कोई कहने लगा है  आरजू बनवास की

मौत के साये में जीती चार पल की जिंदगी
क्या मदन ये सारी दुनिया, है बिरोधाभास की

ग़ज़ल प्रस्तुति:
मदन मोहन सक्सेना